207 views 0 comments

बवाना अग्निकांडः मनोज जैन के बेटे ने फैक्ट्री के बाहर लगाया था ताला

by on February 6, 2018
 
Spread the love

– छत से छलांग लगाकर जान बचाने में सफल रहे चश्मदीद ने किया खुलासा

 

बवाना में 17 लोगों की जान लेने वाली खूनी फैक्ट्री में अंदर फंसने के बावजूद किसी तरह अपनी जान बचा पाने में सफल रहे 25 वर्षीय रूप प्रकाश ने एक नया खुलासा किया है। रूप प्रकाश के मुताबिक इस फैक्ट्री को मुख्य आरोपी मनोज जैन का बेटा संभालता था। हादसे से कुछ समय पहले ही फैक्ट्री में मनोज जैन का बेटा मजदूरों के लिए खाने पीने का सामान लेकर आया था। सामान देने के बाद उसने ही बाहर से ताला लगा दिया था।
इस हादसे में रूप प्रकाश ने अपने परिवार के तीन सदस्यों को खो दिया ‌‌था। मरने वालों में उसका भाई रोहित और दो चचेर भाई सूरज और संगीत भी शामिल हैं। रूप प्रकाश ने इमारत की छत से छलांग लगाकर अपनी जान बचाई थी। अंबेडकर अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वह वापस अपने गांव लौट गया था। उसने बताया कि ललित और मनोज जैन के अलावा मनोज का बेटा रिंकू भी फैक्ट्री के कामकाज में पूरी तरह से सक्रिय था। वह ललित के साथ ही खाने-पीने का सामान देने के लिए आया था, हालांकि पुलिस ने रिंकू को इस मामले में आरोपी नहीं बनाया है।
रूप प्रकाश ने बताया ‌कि हादसे के तुरंत बाद शुरुआती कानूनी कार्रवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने सीआरपीसी की धारा- 161 के तहत उसके बयान लिए ‌‌थे। वह उस वक्त पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाया ‌था। सब कुछ इतनी जल्दी में हुआ कि वह जांच अधिकारी को रिंकू की भूमिका के बारे में बता भी नहीं पाया था। उसने साफ किया कि अबतक सीआरपीसी की धारा- 164 के तहत मजिस्ट्रेट के समक्ष उसके बयान दर्ज नहीं किए गए हैं। वह न्यायाधीश के समक्ष सारी बात बताएगा।
Be the first to comment!
 
Leave a reply »

 

You must log in to post a comment