130 views 0 comments

पुलिस-प्रॉसिक्यूशन की तनातनी में दुष्कर्म का आरोपी जेल से मुक्त

by on February 13, 2018
 
Spread the love

– दिनदहाड़े कनॉट प्लेस से युवती का अपहरण कर दुष्कर्म करने का मामला
– जांच अधिकारी पर सरकारी वकील को केस की जानकारी नहीं देने का आरोप

हत्या, दुष्कर्म, लूट व डकैती जैसे संगीन अपराध को दिल्ली पुलिस सुलझा लेने के मीडिया के समक्ष बड़े-बड़े दावे करती है। जब यह मामले अदालत के पटल पर जाते हैं तो उम्मीद की जाती है कि उतनी ही मजबूती के सा‌थ पुलिस अपने प्रॉसिक्यूशन ब्रांच की मदद से सुबूतों को पेश करेगी, ताकि अपराधियों को सख्त से सख्त सजा दी जा सके। लेकिन जब प्रॉसिक्यूशन ब्रांच और दिल्ली पुलिस के बीच आपस में ही तनातनी बनी रहेगी तो फिर पीड़ितों को न्याय कौन दिलाएगा। पटियाला हाउस कोर्ट में ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां सरकारी वकील और जांच अधिकारी ने आपसी झगड़े के कारण अदालत के समक्ष दलीलें ही पेश नहीं की। जिसके कारण नाबालिग लड़की का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म करने जैसे संगीन अपराध में लिप्त आरोपी को जेल से मुक्त कर दिया गया।

सरकारी वकील पर केस की ब्रीफिंग नहीं करने का आरोप…

यह मामला कनॉट प्लेस थाने से जुड़ा है। जनवरी माह के प्रारंभ में पीड़िता का अपहरण कर उसे शाहदरा ‌स्थित एक फ्लैट में ले जाया गया था, वहां उसे दुष्कर्म का शिकार बनाया गया। वारदात के करीब एक माह बाद मामले में सह-आरोपी ओमकार सिंह ने जमानत के लिए याचिका लगाई। सुनवाई शुरू हुई तो दिल्ली पुलिस का प्रतिनिधित्व करने वाली सरकारी वकील अनुपमा ने न्यायाधीश से कहा कि मेरे पास दलीलें रखने के लिए जानकारी नहीं है। जांच अधिकारी ने मुझे दलीलें रखने से पूर्व मामले की ब्रीफिंग नहीं की है। ऐसे में वह कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं है। बेहतर होगा कि जांच अधिकारी स्वयं ही उनके समक्ष दलीलें रखें। वहीं, जांच अधिकारी सवीता यादव ने भी यह कहते हुुए दलीलें रखने से इंकार कर दिया कि यह काम मेरा नहीं है।
पोक्सो अदालत की विशेष जज रूबी अल्का गुप्ता ने ओमकार सिंह को 20 हजार रुपये की निजी मुचलके और इतनी ही राशि के जमानती का इंतजाम करने पर जमानत प्रदान कर दी।

घरवालों से झगड़ा कर गुरुद्वारे में रह रही थी पीड़िता…

बचाव पक्ष के वकील ऋषिपाल ने अपने बयान में कहा कि उनके मुवक्किल ओमकार सिंह पर नाबालिग ने दुष्कर्म का आरोप नहीं लगाया है। जिस कार में पीड़िता को सीपी से शाहदरा लेकर जाया गया वह उसकी नहीं थी। उसने केवल अपने कजन के लिए कार चलाई थी। पीड़िता की पूरी कहानी संदेहजनक है। हजारों लोगों के बीच कनॉट प्लेस से दिनदहाड़े एक लड़की के अपहरण की बात हजम नहीं होती। उसका अपने ही घरवालों से विवाद चल रहा था। जिसके चलते ट्यूशन जाने के बहाने वह घर से भाग गई और बंगला साहेब गुरुद्वारे में रह रही थी। इस दौरान वह रोहिणी स्थित एक ब्यूटी पार्लर भी गई।

Be the first to comment!
 
Leave a reply »

 

You must log in to post a comment