191 views 0 comments

फरीदाबाद की एक्सप्लोजिव टीम करेगी विस्फोटक पदार्थ की जांच 

by on February 5, 2018
 
Spread the love

 बवाना अग्निकांड मामले में क्राइम बांच ने कंट्रोलर ऑफ एक्सप्लोजिव से की थी दरख्वास्त

17 लोगों के लिए अग्नि समाधि बनने वाली बवाना की फैक्ट्री की जांच भले ही दिल्ली पुलिस तेजी से करना चाहती हो, लेकिन प्रशासनिक लेट लतीफी का आलम ऐसा है कि वह चाह कर भी इस दिशा में कुछ नहीं कर सकते हैं। जांच में तेजी लाने के लिए दिल्ली पुलिस ने हरियाणा के ‌फरीदाबाद में स्थित कंट्रोलर ऑफ एक्सप्लोजिव से संपर्क किया है। सूत्रों के मुताबिक कंट्रोलर ऑफ एक्सप्लोजिव की टीम से क्राइम ब्रांच को स्वीकृति भी मिल गई है। जल्द ही टीमें विस्फोटक पदार्थ की जांच के लिए बवाना फैक्ट्री का दौरा करेंगी।

दो फैक्ट्रियों की करनी है जांच…

मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच की टीम ने हादसे के तुरंत बाद इस खूनी पटाखा फैक्ट्री को सील कर दिया था। फैक्ट्री चलाने वाले ललित गोयल और मनोज जैन ‌से पूछताछ में पता चला कि वे 1 जनवरी 2018 से ही वे इस फैक्ट्री में शिफ्ट हुए हैं। इससे पहले वे बवाना के डीएसआइआइडीसी में ही स्थित फैक्ट्री संख्या ओ-6 से अवैध रूप से पटाखे बनाने का कारोबार कर रहे थे। यह फैक्ट्री आरोपियों ने अबतक खाली नहीं की थी। दिल्ली पुलिस ने छापेमारी कर इस फैक्ट्री को भी तुरंत सील कर दिया था। अब फरीदाबाद के कंट्रोलर एक्सप्लोजिव को दोनों फैक्ट्री का निरीक्षककरना है। इस बात की जांच की जाएगी कि फैक्ट्री में मौजूद एक्सप्लोजिव पदार्थ की तीव्रता क्या है। क्या इनका इस्तेमाल केवल पटाखों के निर्माण में ही किया जा सकता है या फिर ललित और मनोज के इरादे इससे भी खतरनाक ‌‌हैं। माना जा रहा है कि रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद ही क्राइम ब्रांच इस मामले में अपना आरोपपत्र दाखिल करेगा।

Be the first to comment!
 
Leave a reply »

 

You must log in to post a comment