149 views 0 comments

न्‍यू ईयर विश करने पर हैदराबाद का यह मंदिर देगा सजा

by on December 27, 2017
 
Spread the love

नई दिल्‍ली- देश के सभी शहर में नए साल का जश्‍न मनाया जाता है। रात 12 बजते ही सभी एक दूसरे को नए साल की बधाई देते हैं। बधाईयों का यह सिलसिला अगले कई दिनों तक चलता है। नए जमाने की नई सोच के बीच हैदराबाद में एक ऐसा मंदिर भी है जहां आज भी मंदिर प्रशासन और उनके पुजारियों के खयालात इतने पुराने व दकियानूसी हैं कि सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

हैदराबाद के प्रसिद्ध चिलकुर बालाजी मंदिर के मुख्‍य पुजारी रंगराजन ने यह फरमान जारी किया है कि इस साल न्‍यू ईयर पर कोई किसी को नए साल की मुबारकबाद नहीं देगा। ऐसा करना हिन्‍दू धर्म और सभ्‍यता के खिलाफ है। मुख्‍य पुजारी ने कहा कि मंदिर में आने वाले किसी भी शख्‍स ने अगर यहां लोगों को नए साल की मुबारकबाद दी तो उन्‍हें सजा के तौर पर कान पकड़ कर दंड बैठक लगानी होगी।

मुख्‍य पुजारी का कहना है कि अगर लोग किसी को एक जनवरी 2018 को मुबारकबाद देना ही चाहते हैं तो वे हैप्‍पी इंग्लिश ईयर कहकर संबांधित कर सकते हैं। तेलगु लोग उगदी को नए साल के रूप में मनाते हैं। चिलकुर बालाजी मंदिर का यह निर्देश आंध्र प्रदेश सरकार के उस फैसले के एक दिन बाद आया है जिसमें कहा गया था कि इस वर्ष राज्‍य के किसी भी मंदिर में नए साल को लेकर कोई आयोजन नहीं किया जाएगा।

हिन्‍दू धर्म परिरक्षना ट्रस्‍ट एचडीपीटी के सचिव डॉ सी राघवाचरुलू का कहना है कि भारत को आजाद हुए 70 साल बीत चुके हैं, परन्‍तु आज भी हम अंग्रेजों के जमाने के ब्रिटिश कैलेंडर को फॉलो करते हैं। भारतीय वेदिक कैलेंडर में एक जनवरी को नए साल के संबंध में कोई जानकारी नहीं है। ऐसे में हमे एक जनवरी को नया साल नहीं मनाना चाहिए। आंध्र प्रदेश सरकार ने एचडीपीटी के नक्‍शे कदम पर चलते हुए ही यह फतवानुमा आदेश पारित किया था।

Be the first to comment!
 
Leave a reply »

 

You must log in to post a comment